Shopian Encounter Terrorist holed up inside mosque in jammu Kashmir after overnight gunfight

0


जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों ने एनकाउंटर में तीन आतंकियों को मार गिराया है। शोपियां में सुरक्षा बलों के साथ रात भर चली मुठभेड़ के बाद कम से कम एक आतंकवादी के मस्जिद में छिपने की आशंका है। बताया जा रहा है कि मस्जिद में जो आतंकी छिपा है, वह कश्मीर के आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद (जैश-ए-मोहम्मद का विंग) का सरगना है। सुरक्षाबलों ने उसे घेर रखा है और ऑपरेशन जारी है। इस बीच उसे समझाने के लिए सुरक्षाबलों ने उसके भाई और इमाम साहब को मस्जिद के अंदर भेजा है। पुलिस के अधिकारी ने कहा कि आतंकियों से मुठभेड़ में सुरक्षाबलों की प्राथमिकता मस्जिद की पवित्रता को बचाने की है। 

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, एक अधिकारी ने कहा कि ऑपरेशन में समय लगेगा, क्योंकि मस्जिद की पवित्रता सुरक्षाबलों की सर्वोच्च प्राथमिकता है। क्षेत्र के चारों ओर घेरा कड़ा कर दिया गया है और लाइटें लगा दी गई हैं। रात से ही आतंकी फायरिंग कर रहा है। खुद कश्मीर रेंज के आईजीपी इस ऑपरेशन की निगरानी कर रहे हैं। आतंकी शोपियां में सेंट्रल जामिया मस्जिद जन मोहमल्ला में छिपा हुआ है। 

पुलिस ने बताया कि शोपियां में यह मुठभेड़ गुरुवार शाम को शुरू हुई थी और अब यह गतिरोध में बदल गई। साथ ही उन्होंने बताया कि तीन आतंकवादियों को मार गिराया गया है और सुरक्षा बल के चार कर्मी घायल हो गए हैं। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक ट्वीट में बताया कि छिपे हुए आतंकवादी के भाई और स्थानीय इमाम साहब को छिपे हुए आतंकी को बाहर लाने और आत्मसमर्पण करने के लिए मस्जिद के भीतर भेजा गया है। मस्जिद को बचाने के लिए प्रयास जारी हैं। 

मस्जिद से आतंकवादी को पकड़ने के लिए सुरक्षाबलों के ऑपरेशन के दौरान पत्थरबाजी भी हुई है। हालांकि, सुरक्षाबलों ने पत्थरबाजों को किसी तरह तितर-बितर किया और उन्हें भगा दिया। पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के जवान मिलकर इस संयुक्त ऑपरेशन को अंजाम दे रहे हैं। सुरक्षाबलों को आतंकियों के होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद यह कार्रवाई की गई। 

अधिकारी के मुताबिक, जब सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों की टीम मौके पर पहुंची तो छिपे हुए आतंकियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद जवानों ने भी जवाबी फायरिंग की। इसके बाद यह मुठभेड़ शुरू हो गया और इसमें तीन आतंकी मारे गए। इस एनकाउंटर में तीन जवान भी घायल हुए हैं। दो को 92- आर्मी बेस अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया है। फिलहाल, शोपियां और पुलवामा जिले में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। 
 





Note- यह आर्टिकल RSS फीड के माध्यम से लिया गया है। इसमें हमारे द्वारा कोई बदलाव नहीं किया गया है।