Maharashtra: पुणे स्टेशन पर दिखी प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़, कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन के डर से पिछले साल की तरह कर रहे हैं पलायन

0


Maharashtra: पुणे स्टेशन पर दिखी प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़, कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लॉकडाउन के डर से पिछले साल की तरह कर रहे हैं पलायन

प्रवासी मजदूर (Photo Credits ANI)

मुंबई: देश के कई राज्यों में कोरोना कोविड-19  की दूसरी लहर कहर बनकर टूट रही है, जिसमें महाराष्ट्र में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण की रफ्तार बेकाबू होती जा रही है. आलम तो यह है कि राज्य में संक्रमण के मामलों में बेहिसाब बढ़ोत्तरी का सिलसिला जारी है. राज्य में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 59,907 नए केस सामने आए हैं, इसके साथ ही 322 लोगों की मौत हुई है, जबकि 30,296 मरीज रिकवर हुए हैं. राज्य में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार की चिंता बढ़ती जा रही है और इस महामारी को नियंत्रित करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने नाईट कर्फ्यू के अलावा कड़े प्रतिबंध लगाए हैं. सरकार द्वारा राज्य लगाए जा रहे कड़े प्रतिबंधों के चलते एक बार फिर प्रवासी मजदूरों को लॉकडाउन का डर सताने लगा है और पिछले साल की तरह एक बार फिर प्रवासी मजदूर, मुंबई ठाणे, नवी मुंबई और पुणे से पलायन करने को मजबूर हो गए हैं.

इसी कड़ी में महाराष्ट्र स्थित पुणे रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ देखने को मिली, जो अपने घरों की ओर पलायन कर रहे हैं. पुणे रेलवे पीआरओ ने बताया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण प्रवासी मजदूर शहर छोड़कर अपने गांव की तरफ जा रहे हैं. प्रवासी मजदूरों के लिए रेलवे स्टेशन पर पर्याप्त व्यवस्था की गई है. लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ भेजा जा रहा है.  हमें लोगों के सहयोग की जरूरत है. यह भी पढ़े: COVID-19 Spike: देशभर में कोरोना की रफ्तार जारी, कोविड के सबसे ज्यादा मामले वाले 10 जिलों में से 7 महाराष्ट्र के

देखें ट्वीट-

गौरतलब है कि पिछले साल भी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते जब देश में लॉकडाउन किया गया था तो महाराष्ट्र समेत देश के विभिन्न हिस्सों से भारी तादात में प्रवासी मजदूर अपने घरों की ओर पलायन करने को मजबूर हो गए थे. अब एक बार फिर कोरोना की बढ़ती रफ्तार ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है कि कहीं इस साल के हालात भी पिछले साल की तरह न हो जाए.





Note- यह आर्टिकल RSS फीड के माध्यम से लिया गया है। इसमें हमारे द्वारा कोई बदलाव नहीं किया गया है।