Your personal Videos May be Giving Away Sensitive Data to Hackers check details varpat

0
अपने पासवर्ड को टफ रखें और किसी से भी शेयर न करे.

अपने पासवर्ड को टफ रखें और किसी से भी शेयर न करे.

साइबर सुरक्षा के एक एसोसिएट प्रोफेसर जेसन नर्स के एक नए पोस्ट के अनुसार, हम में से कई लोगों द्वारा घर पर बने सोशल मीडिया पोस्ट ओपेन साइबर पर लीक हो जाते है.

नई दिल्ली. कोरोनावायरस (Covid-19) के समय में सबसे ज्यादा साथ हमारा हमारे मोबाइल (Mobile Phone) और इंटरनेट (Internet) ने दिया है लेकिन जब हमे पता चले के हमारी पर्सनल पिक्चर (Personal PIC) और विडियो (Video) सेफ नहीं है और भी कोई उसे देख रहा है तब हमें डर के साथ गुस्सा भी आता है. सोफोस नेकेड सिक्योरिटी ब्लॉग पर केंट विश्वविद्यालय में साइबर सुरक्षा के एक एसोसिएट प्रोफेसर जेसन नर्स के एक नए पोस्ट के अनुसार, हम में से कई लोगों द्वारा घर पर बने सोशल मीडिया पोस्ट ओपेन साइबर पर लीक हो जाते है. कई विडियोज जैसे बर्थडे पार्टी या फिर और किसी समय ऐसे ही बना लिए गए वीडियो, इन्हें आप सोशल मिडिया पर नहीं डालते हैं क्योकि आप इन्हे पर्सनल रखना चाहते है. आजकल ऐसे ही विडियो आपके मोबाइल से हैक होकर सोशल नेटवर्किंग साईट पर अपडेट हो रहे है. इन्हें आप अपनी बोरियत दूर करने के लिए बनाते है लेकिन हो कुछ और रहा है जो बहुत ही शर्मनाक होता जा रहा है.

पर्सनल चीजों पर किया जा रहा अटैक
नर्स ने यहां समस्या को स्पष्ट करते हुए कहा कि स्कैम कई अपराधियों के लिए हमले का पसंदीदा रूप हैं. क्योकि यह सरल होते हैं और अगर अच्छी तरह से एक्जक्यूटेड होते हैं, तो अपेक्षाकृत अच्छी सफलता दर देते हैं. चूकी अब हम स्कैम के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं, तो अपराधियों को अधिक चालाक बनना पड़ा है. अब स्कैमर्स ने हमारे पर्सनल चीजों पर अटैक करना शुरू कर दिया है और वो सफल भी हुए है.

ये भी पढ़ें- #TheBigBull: जानिए 12वीं पास हर्षद मेहता ने कैसे स्टॉक मार्केट को लगाया था 4000 करोड़ का चूना, ऐसे हुई थी मौतआपका पर्सनल डेटा क्यूं सेफ नहीं!

आज की दुनिया में, साइबर क्राइम के कहीं अधिक रिफ्लेक्शन है. जैसे, कई रिपोर्टों में COVID-19 संबंधित स्कैम और वैश्विक महामारी के शुरुआती महीनों के दौरान साइबर क्राइम में वृद्धि का पता चला हैं. कुछ समय पहले ज़ूम ऐप स्कैम से तस्वीर सामने आई हैं. बहुत सारे यूजर्स जिन्होने पेंडेमिक के दौरान जूम ऐप का इस्त्माल किया उनकी पर्सनल जानकारी साइबर क्रिमिनल्स के हाथ लग गयी. जैसे कि सोफ़ोस की रिपोर्ट का दावा है, सोशल मीडिया पोस्ट मे हैशटैग के तहत पर्सनल डिटेल्स शामिल किए जाते हैं, जैसा कि, #WorkFromHome, #WorkingFromHome, #HomeOffice. जन्मदिन की पार्टियां, ऑफिस पार्टी या अन्य कोई फंकशन की हैश टैग की गई तस्वीरों ज़ूम या टीम या अन्य किसी सोश्ल साइट्स पर होते हैं, जिससे जन्मतिथि का पता चलता है.

ये भी पढ़ें- LPG सब्सिडी का पैसा आपको मिल रहा या नहीं? फटाफट करें ये काम, खाते में आने लगेंगे पैसे…

अमेजन पार्सल या पोस्टल मेल पर लिखे एड्रेस के माध्यम से घर का पता चलना और परिवार के सदस्यों, बच्चों और पालतू जानवरों के नाम का पता करना साइबर क्रिमिनल के लिए कोई बड़ी बात नहीं हैं. इसलिए आप सावधान रहे. अपने पासवर्ड को टफ रखें और किसी से भी शेयर न करे. कूरियर पार्टनर्स को अपने घर से बहार ही रखें और पार्सल वाले एनवेलोप को अच्छे से डिस्ट्रॉय करके फेंकें.